Home World Flights Hotels Shopping Web Hosting Education Pdf Books Live TV Music TV Kids TV FilmyBaap Travel Contact Us Advertise More From Rclipse

Ankita Lokhande ने खोला राज, बोलीं- एक बार सुशांत ने कहा था कि अगर खुदकुशी का ख्याल आया तो...

1 week ago 28

नई दिल्ली: सुशांत सिंह राजपूत (Sushant Singh Rajput) की मौत के डेढ़ महीने बीत जाने के बाद उनका परिवार अब खुलकर सामने आया है और सुशांत के लिए इंसाफ की लड़ाई लड़ रहा है। रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty) के खिलाफ सुशांत के पिता द्वारा एफआईआर करने के बाद अंकिता लोखंडे (Ankita Lokhande) भी खुलकर सामने आई हैं और सुशांत को इंसाफ दिलाने की मुहिम में जुट चुकी हैं। अंकिता इन दिनों सोशल मीडिया (Social Media) के अलावा अलग-अलग टीवी चैनल्स पर जाकर अपनी बात कह रही हैं। हाल ही में उन्होंने बताया कि वह सुशांत के अंतिम संस्कार में शामिल क्यों नहीं हुई थीं?

अंतिम संस्कार में क्यों नहीं हुईं शामिल?

अंकिता ने रिपब्लिक टीवी से बात करते हए 'मैं सुशांत के अंतिम संस्कार में नहीं गई क्योंकि मैं उन्हें उस हाल में नहीं देख सकती थी। इसलिए मैंने फैसला लिया था कि मैं वहां नहीं जाऊंगी। हां, लेकिन मैं उनके परिवार से मिलने गई थी कि सब ठीक हैं या नहीं। यह मेरा कर्तव्य था कि मैं उन्हें देखूं कि वह ठीक हैं या नहीं।' अंकिता ने बताया कि जब वह सुशांत के परिवार (Sushant Singh Rajput Family) से मिली थीं तो वह काफी टूट चुके थे। साथ ही अंकिता ने यह भी बताया कि उन्हें सुशांत के निधन की खबर एक रिपोर्टर के द्वारा मिली। उन्हें जैसे ही इसके बारे में पता चला तो वह बुरी तरह टूट गई थीं।

खुदकुशी को लेकर सुशांत ने क्या कहा था?

इसके साथ ही अंकिता ने आज तक चैनल से बात करते हुए बताया था कि सुशांत खुदकुशी की खबरों को सुनकर बहुत दुखी होते थे। जब कोई आत्महत्या करता था हम बात करते थे आपस में और सुशांत कहता था कि आखिर कोई अपनी जान कैसे दे सकता है। मैं किसी को भी 5 मिनट में खुदकुशी करने के विचार से बदल सकता हूं और अगर कभी मुझे भी ये ख्याल आए तो मैं उसे 5 मिनट में बदल लूंगा। अंकिता ने कहा वह काफी पॉजिटिव इंसान थे। आपको बता दें कि शनिवार को बिहार पुलिस 3 किलोमीटर पैदल चलकर अंकिता लोखंडे से पूछताछ करने के लिए पहुंची थी। एक घंटे तक पूछताछ करने के बाद जाते वक्त बिहार पुलिस को अंकिता ने अपनी जैगुआर कार दी ताकि उन्हें पैदल ना चलना पड़े।

Read Entire Article