Home World Flights Hotels Shopping Web Hosting Education Pdf Books Live TV Music TV Kids TV FilmyBaap Travel Contact Us Advertise More From Rclipse

सिंगर Neha Bhasin का खुलासा: 10 साल की उम्र में हरिद्वार में उनके साथ हुई थी छेड़खानी

1 week ago 5

मुंबई। सिंगर नेहा भसीन ( Neha Bhasin )का कहना है कि उन्हें जीवन में कई बार यौन प्रताड़ना का सामना किया है। 'दिल दिया गल्लां' फेम सिंगर ने कहा कि उन्होंने यौन प्रताड़ना का सामना तब किया जब वह बच्ची थीं।

यह भी पढ़ें : अनुपम खेर के बेटे Sikandar Kher ने सोशल मीडिया पर कहा- मुझे काम चाहिए, मिले ढेरों जवाब

'मुझे ये घटनाएं अच्छे से याद है'
सिंगर ने आईएएनएस से बातचीत में बताया,' मैं तब 10 साल की थी। मैं देश के धार्मिक शहर हरिद्धार में थी। मेरी मां मुझसे कुछ कदम की दूरी पर थी। अचानक एक व्यक्ति मेरे पास आया और मेरे पीछे की तरफ गंदी हरकत की। मैं चौंक गई। मैं तुरंत वहां से भाग गई। इसके कुछ वर्ष बाद एक अन्य व्यक्ति ने एक हॉल में मेरे ब्रेस्ट ग्रेब कर लिए। मुझे ये घटनाएं अच्छे से याद है। मुझे लगता था कि ये मेरी गलती थी। अब लोग सोशल मीडिया पर आ गए हैं और दूसरों को मानसिक, शारीरिक, भावनात्मक और धार्मिक रूप से प्रताड़ित करना शुरू कर दिया है। ये एक तरह का बिना चेहरे का आतंकवाद है।'

पॉप सिंगर के फैंस ने दी धमकी
साइबर बुलिंग पर बात करते हुए नेहा ने कहा उन्हें एक पॉपुलर के-पॉप बैंड के फैंस ने आॅनलाइन मारने की धमकियां दीं। यह तब शुरू हुआ जब मैंने एक दूसरे सिंगर के समर्थन में अपने विचार रखे थे। मैंने उस के-पॉप सिंगर के बारे में कुछ भी बुरा नहीं कहा था। मैंने सिर्फ यह कहा था कि मैं उस सिंगर की फैन नहीं हूं और इसके बाद मुझे ट्रोल किया जाने लगा। इसके बाद मुझे मारने और रेप करने की धमकियां आने लगीं। मैंने यह सब देखा है। अब मैं चुप नहीं रहूंगी। मैंने इसे लेकर पुलिस में शिकायत भी दर्ज की है।

यह भी पढ़ें : उर्वशी ने बताए अपने मोबाइल नंबर, 2 अंक हैं मिसिंग, पता करने को लोग लगा रहे ऐसे-ऐसे जुगाड़

गलत के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए
इसी तरह के अनुभवों को लेकर नेहा ने एक नया सॉन्ग 'केंदे रहदें' जारी किया है, जो साइबर बुलिंग के खिलाफ है। इस गाने में महिलाओं के प्रति गलत व्यवहार, साइबर बुलिंग और समाज में महिलाओं की खराब स्थितियों पर फोकस किया है। नेहा का कहना है कि लोगों को गलत तरीकों को बर्दाश्त नहीं करना चाहिए। लोगों को गलत के खिलाफ आवाज उठानी चाहिए। नजरअंदाज न करें, आवाज उठाएं।'

Read Entire Article