Home World Flights Hotels Shopping Web Hosting Education Pdf Books Live TV Music TV Kids TV FilmyBaap Travel Contact Us Advertise More From Rclipse

पैंगॉन्ग झील इलाके में पिछले हफ्ते 100-200 राउंड गोलियां चलीं, दोनों देशों के बीच मॉस्को समझौते से पहले यह घटना हुई

1 week ago 9

भारत-चीन के विदेश मंत्रियों की 10 सितंबर को मॉस्को में हुई मीटिंग से पहले लद्दाख में भारत और चीन के सैनिकों के बीच फायरिंग हुई थी। पूर्वी लद्दाख में पैंगॉन्ग सो झील के उत्तरी छोर पर दोनों तरफ से 100 से 200 राउंड हवाई फायर हुए थे। यह घटना रिजलाइन पर हुई थी, जहां फिंगर-3 और फिंगर-4 के इलाके मिलते हैं।

चीनी मीडिया के मुताबिक पिछले हफ्ते तनाव चरम पर था, क्योंकि चीन ने कई इलाकों में सैनिकों और हथियारों की तैनाती बढ़ा दी थी। लेकिन, विदेश मंत्री जयशंकर और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच मॉस्को समझौते के बाद चीन ढीला पड़ गया था।

भारत-चीन सीमा पर पिछले 20 दिन में 3 बार गोलियां चलीं
पहली बार:
29-31 अगस्त के बीच पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी छोर पर
दूसरी बार: 7 सितंबर को मुखपारी हाइट्स इलाके में
तीसरी बार: 8 सिंतबर को पैंगॉन्ग झील के उत्तरी छोर पर

45 साल बाद भारत-चीन सीमा पर गोलियां चलने की घटना हुई है। बताया जा रहा है कि एक-दूसरे के सैनिकों को रोकने के लिए दोनों तरफ से हवा में गोलियां चलाई गई थीं। हालांकि, 7 और 8 सितंबर की घटनाओं पर कोई आधिकारिक बयान नहीं आया।

चीन से जारी सीमा विवाद के बीच सरकार ने बुधवार शाम सर्वदलीय बैठक बुलाई है। कांग्रेस इस मसले पर संसद में चर्चा की मांग कर रही है। मंगलवार को बोलने का मौका नहीं मिलने पर कांग्रेस ने लोकसभा से वॉकआउट किया था।

कई इलाकों में भारत-चीन के सैनिकों में सिर्फ 300 मीटर का फासला
सितंबर के पहले हफ्ते में पैंगॉन्ग सो झील के उत्तरी और दक्षिणी छोर पर काफी मूवमेंट हुए थे। तनाव अभी बरकरार है। चुशूल सेक्टर में कई जगहों पर भारत और चीन के सैनिक एक-दूसरे से सिर्फ 300 मीटर की दूरी पर तैनात हैं। इस बीच दोनों देशों के आर्मी अफसरों के बीच फिर से बातचीत होनी है।

चीन ने 5 दिन में 3 बार घुसपैठ की कोशिश की थी
29-30 अगस्त की रात चीन के सैनिकों ने पैंगॉन्ग झील के दक्षिणी छोर की पहाड़ी पर कब्जे की कोशिश की थी, लेकिन भारतीयों जवानों ने नाकाम कर दी। उसके बाद आर्मी अफसरों की बातचीत का दौर शुरू हुआ, लेकिन चीन ने अगले 4 दिन में 2 बार फिर घुसपैठ की कोशिश की।

शांति से सीमा विवाद सुलझाने के लिए 10 सितंबर को मॉस्को में भारत-चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक हुई थी। इसमें डिस-एंगेजमेंट समेत 5 पॉइंट्स पर सहमति बनी थी। लेकिन, चीन बार-बार अपनी बात से पीछे हट रहा है और विवादित इलाकों में लगातार मूवमेंट कर रहा है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी मंगलवार को संसद में कहा कि चीन ने एलएसी पर सैनिक और गोला-बारूद जमा कर रखे हैं, लेकिन भारत भी तैयार है।

ये खबरें भी पढ़ सकते हैं...

1. चीन से विवाद पर सरकार का बयान:राजनाथ बोले- चीन को गलवान की झड़प में भारी नुकसान हुआ था, वह अब बॉर्डर पर भारी तादाद में सेना और गोला-बारूद जमा कर रहा

2. लद्दाख में तनाव कम करने की कोशिश:भारत-चीन के विदेश मंत्रियों की बैठक में 5 पॉइंट पर सहमति; बातचीत जारी रखते हुए सैनिक हटेंगे, माहौल बिगाड़ने वाली कार्रवाई नहीं होगी



आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें एलएसी पर भारत-चीन के बीच 45 साल में पहली बार फायरिंग हुई है। लद्दाख के कई विवादित इलाकों में दोनों के सैनिक 300 मीटर से भी कम दूरी पर तैनात हैं। (फाइल फोटो)
Read Entire Article