Home World Flights Hotels Shopping Web Hosting Education Pdf Books Live TV Music TV Kids TV FilmyBaap Travel Contact Us Advertise More From Zordo


अमिताभ बच्चन के कारण शत्रुघ्न सिन्हा ने छोड़ दी थीं कई फिल्में, इस वजह से आ गई थी रिश्ते में दरार

1 week ago 14

शत्रुघ्न सिन्हा और अमिताभ बच्चन ने 70 के दशक में पर्दे पर कई फिल्मों में काम किया, लेकिन पर्दे के पीछे दोनों के बीच कुछ भी ठीक नहीं था। शत्रुघ्न सिन्हा की बायोग्राफी 'एनीथिंग बट खामोश' में एक्टर ने खुलासा किया कि अमिताभ बच्चन की वजह से उन्होंने वास्तव में बहुत सारी फिल्मों का साइनिंग अमाउंट वापस कर दिया था। शत्रुघ्न ने किताब में लिखा, समस्या वो थी जो मुझे अपने प्रदर्शन के लिए मिल रही थी। मुझे जो प्रतिक्रिया मिल रही थी उसे अमिताभ देख सकते थे। इसलिए वो नहीं चाहते थे कि मैं उनकी फिल्मों का हिस्सा बनूं। उन्होंने याद किया कि फिल्म 'काला पत्थर' के दौरान जो उस समय उनके करियर की बेहतरीन फिल्मों में से एक थी, दोनों के बीच काफी तनाव बढ़ गया था।

इतना ही नही जब अमिताभ से एक इवेंट के दौरान शत्रुघ्न से इस बारे में पूछा गया था तो उन्होंने कहा था, "ये बातें सब कल की हैं। अगर नहीं लिखता तो यह ऑनेस्ट बायोग्राफी नहीं होती। इसका मतलब ये नहीं कि आज मेरे दिल में कुछ खटास है। वो जवानी का जोश और स्टारडम का तकाजा था। अगर हम दोस्त हैं, तो हमें लड़ने का भी हक है। अगर आज आप मुझसे पूछें तो मैं कहूंगा कि मेरे दिल में अमित (अमिताभ बच्चन) के लिए बेहद आदर है और मैं उन्हें पर्सनैलिटी ऑफ द मिलेनियम मानता हूं।"

shatru.jpg

शत्रुघन ने अपनी किताब में लिखा हैं, ‘सबसे बड़ी समस्या ये थी कि मुझे मेरी योग्यता के आधार पर अलग पहचान मिल रही थी। अमिताभ बच्चन को भी ये चीज समझ आ रही थी और यही वजह थी कि वो मुझे अपनी कई फिल्मों में देखना नहीं चाहते थे।’ शत्रुघ्न ने अपनी जीवनी में आगे लिखा, ‘काला पत्थर के दौरान, अमिताभ बच्चन की एक हीरोइन दोस्त थी और वह शूटिंग पर अक्सर उनसे मिलने आया करती थी। इसके बाद हम लोगों ने दोस्ताना में काम शुरू किया तो भी वह आती थी, लेकिन अमिताभ ने कभी उसका परिचय हम लोगों से नहीं करवाया था।’

वह आगे लिखते हैं, ‘शोबिज में, हर किसी को पता होता है कि कौन किससे मिलने के लिए आ रहा है। हम लोगों से भी पहले तो मीडिया की ही इसकी खबर लग जाती है। अगर रीना रॉय मेरे मेकअप रूम में होती थी तो सबको पता होता था। क्योंकि ऐसी चीजें फिल्म इंडस्ट्री में छुपाकर रखना संभव नहीं था। टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ बातचीत में शत्रुघ्न ने बताया था, ‘दीवार, शोले और सत्ते पे सत्ता जैसी फिल्में पहले मुझे ऑफर हुई थीं। लेकिन मेकर्स को बाद में लगा होगा कि कोई अन्य अभिनेता इस फिल्म के लिए ज्यादा बेहतर है।’

यह भी पढ़ें- कभी किसी ने हिम्मत नहीं की थी- फिरोज खान के 'बेबी' कहने पर दंग रह गई थीं हेमा मालिनी

70 के दशक में बॉलीबुड में उनका कद अमिताभ बच्चन से बड़ा था। इस कारण ही दोस्ती में दरार पड़ी। अपनी किताब में शत्रु लिखते हैं, "तब लोग कहते थे कि अमिताभ और मेरी ऑनस्क्रीन जोड़ी सुपरहिट है, पर वो मेरे साथ काम नहीं करना चाहते थे। उनको लगता था कि 'नसीब', 'काला पत्थर', 'शान' और 'दोस्ताना' मेंमैं उनपर भारी पड़ गया, लेकिन इससे मुझे कभी फर्क नहीं पड़ा।"

"काला पत्थर के सेट पर कभी मुझे अमिताभ के बगल वाली कुर्सी ऑफर नहीं की गई। शूटिंग के बाद लोकेशन से होटल जाते हुए कभी अमिताभ ने मुझे अपनी कार में आने के लिए ऑफर नहीं दिया। मुझे ये देखकर आश्चर्य होता था कि आखिर ये क्यों हो रहा है। लेकिन मैंने कभी किसी बात को लेकर शिकायत नहीं की।" शॉटगन अपनी बायोग्राफी में लिखते हैं कि अमिताभ का फिल्मी करियर बनाने के लिए उन्होंने कई बड़ी फिल्में बिना किसी परेशानी के उनके लिए छोड़ दी।

यह भी पढ़ें-हेमा मालिनी और संजीव कुमार के मतभेद जानते थे राजेश खन्ना, फिर भी किया था ऐसा काम

Read Entire Article